Feedback

Rating 

Average rating based on 2330 reviews.

Suggestion Box

Name:
E-mail:
Phone:
Suggestion:
भारतीय बैंकों का बदलता चेहरा
MRP ₹399290

Note: Your PDF file is password protected. Your password is the last 4 digits of your registered mobile number with us.

1. भारतीय बैंकों का इतिहास घोटालों और डूबने का पुराना सिलसिला 2. बैंकों का राष्ट्रीयकरण और उदारीकरण प्रगति, किंतु घोटालों-घपलों की चीख-पुकार 3. बैंक घोटालों-धोखेबाजी के हथकंडे बदलते जमाने का नया गोरखधंधा 4. बैंकों के महाघोटालेबाज ऊंची दुकान, फीके पकवान 5. येस बैंक का उत्कर्ष और पतन चौबेजी गए छब्बे बनने, दुबे बनके लौटे 6. पी.एम.सी. बैंक घोटाला सहकारी बैंकों से निराशा, फिर भी आशा 7. अनर्जक परिसम्पत्तियों का मकड़जाल ज्यों-ज्यों दवा की, मर्ज बढ़ता ही गया 8. बैंकों के निजीकरण की गूंज दर्द पांव में, क्या इलाज़ हाथ का? 9. कृषि-ऋण माफी का अर्थशास्त्र राजनीतिक मजबूरियां, बैंकों की दुश्वारियां 10. नोटबंदी का भूचाल नेक इरादा, क्या उलटी पड़ी चाल? 11. प्रधानमंत्री जन-धन योजना सराहनीय पहल, क्या ठंडा पड़ा उत्साह? 12. भारतीय रिजर्व बैंक की स्वायत्तता लकीर के फ़कीर बनाम हकीकत के हमराही 13. डिजिटल बैंकिंग की बढ़ती लोकप्रियता मायने, लाभ और जोखिम 14. बैंकिंग क्षेत्र में बढ़ते साइबर अपराध सतर्कता के अभाव से करोड़ों की हानि उपसंहार: 15. घोटालों-घाटे से उबर कर बैंक लाभ में नई समस्याएं और जटिल ...